Ads

Video Of Day

Author

Recent

Random Posts

randomposts

Monday, 9 September 2019

कुछ नया सीखने की कोशिश

हम लोगों ने फोबिया का नाम तो जरूर सुना होगा, ओ माय गॉड डर तेरे कितने नाम किसी को ऊंचाई से डर लगता है ,तो किसी को पानी से डर लगता है ,तो कोई सपने में ही चीख उठता है ,डर से और किसी को अकेलेपन से डर लगता है ,तो डर के तो बहुत सारे नाम है |
आज हम जानेंगे कि डर के नाम को क्या बोलते हैं? क्या आप जानते हैं कि हर डर का एक खास नाम होता है| डर भी कई तरह के होते हैं {पहला}- आदरणीय सम्मान निश्चित दर जैसा शिक्षक से डरना (दूसरे) -किसी लड़ाकू या हिंसक व्यक्ति से भयभीत होना|  (तीसरा) -किसी अप्रिय घटना या परिस्थिति में घबराना आतंकित होना भयभीत होना घबरा जाना वैसे तो समानार्थी है| पर अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग रूप में लिए जाते हैं अंग्रेजी भाषा में अलग-अलग नाम है डर से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियां इस प्रकार है |1🌎जब कोई व्यक्ति पानी से डरता है उसके पास तक नहीं जाना चाहता इसे हाइड्रोफोबिया कहते हैं |2.🌎कुछ लोग किताबों से डरते हैं बीबीलयो  फोबिया कहते हैं| 3.🌎कुछ लोग पेड़ों के पास जाने से बहुत से लोगों को डर लगता है इस स्थिति में इसे डेंड्रोफोबिया कहते हैं | 4.🌎हवाई जहाज में बैठने उड़ने से लगने वाले डर को एवियोफोबिया एरो फोबिया कहते हैं|

5.🌎बादलों की गर्जना और बिजली के चमकने से लगने वाले डर बांद्रो फोबिया कहते हैं |6.🌎किसी अजनबी या विदेशी व्यक्ति से लगने वाले डर को जेनोफिब कहते हैं |7🌎सांप से लगने वाले डर को ऑफिडियो फोबिया कहते हैं|8.🌎खुले स्थानीय भीड़भाड़ वाले सार्वजनिक स्थान पर लगने वाले डर एगोरा फोबिया कहलाता है| 9.🌎कई लोग मोबाइल फोन के लिए बिना कहीं भी जाने से डरते हैं इस परिस्थिति में लगने वाले डर को नोमोफोबिया कहते हैं | 10.🌎मुर्गियों से लगने वाले डर को एंड्रोफोबिया कहते हैं |11.🌎कई लोग बिस्तर पर जाने से डरते हैं इसे क्लिनोफोबिया कहते हैं|  12.🌎भूतों से लगने वाले डर  फासमोबिया कहलाता है | 13.🌎घड़ियों से लगने वाले डर को क्रोनो मेनट्रो फोबिया कहते हैं| 14.🌎कई लोग बदसूरती से डरते हैं इसे अनअट्रैक्टिव फोबिया कहते हैं |15.🌎चोर डकैत से लगने वाले डर स्क्लेरो फोबिया कहलाता है| 16.🌎कई बड़े लोग छोटे बच्चों को अपने बाल काटने से डर लगता है इस डर को ट्रांस्फोबिया कहते हैं| 17.🌎गंजे होने से लगने वाले डर  पेलाडोफोबिया कहलायेगा |

No comments:

Post a comment

loading...